भूल गया है क्यों इंसान

भूल गया है क्यों इंसान

सबकी है मिट्टी की काया,
सब पर नभ की निर्मल छाया,
यहाँ नहीं कोई आया है,
ले विशेष वरदान .
भूल गया है क्यों इंसान

धरती ने मानव उपजाए,
मानव ने ही देश बनाए
बहुदेशों में बसी हुई है
,
एक धरा संतान.
भूल गया है क्यों इंसान


देश अलग हैं
, देश अलग हों,
वेश अलग, वेश अलग हों,
मानव को मानव से लेकिन,
जोडे अंतर प्राण
भूल गया है क्यों इंसान

हरिवंश राय बच्चन

Leave a comment